0

Ek Kavita Betiyon Ke Naam

यह सुबह अभी ही हुई थी,
रात कैसे हो गई
पानी बरसता है बादलों से,
हर इक बूँद तेज़ाब कैसे हो गई.
गाँव में सीता थी,
सती!
शहर में बर्बाद कैसे हो गई.

नंगी नज़रों के छुरों से तार-तार हो जाती है-
इज्ज़त!
चौराहों पर.
पांच बरस की मुन्नी,
छुटपन में ही बदनाम कैसे हो गई?
ऊँचे मकान,ऊँची पँहुच-
किसी का खाब होते हैं.
किसी की आबरू से खेलना,
क्यूँ किसी की हसरत हो गई.

जिस बाप की परी होनी चाहिए थी बेटी,
क्यूँ उसके लिए बोझ हो गई.
वहशियों की पटरी तो उतर जानी चाहिए थी
क्यूँ मौजों की रेलगाड़ी हो गई.
जाम से जाम टकराना गंगा स्नान हुआ.
सलीब पर टंगा है भोला-भाला-
“ओछेपन से रिश्तेदारी हर एक की हो गई”.

हर एक को खबर है अब;
मनचलों की चांदी हो गई.
“अजी! किवाड़ लगा दो,
अपनी शीला जवान हो गई”.
ओखली में सर रखा
ज़िन्दगी की शाम हो गई.
दुखी है नंदू क्यूँ उसके घर
औलाद “लड़की हो गई”.

बड़ी गलतफहमी है,चूक नहीं;
किस्मत खुल गई.
आ बता दे हर एक मुसाफिर को बेटी-
तेरा घर नहीं रास्ता
क्या हुआ जो रात हो गई.

किस ठेकेदार ने बनाये थे मकाँ,
‘आलिशां’ आम हो गए
ताली बजाने वालों अब और जोर से बजाना तालियाँ,
हर एक घर में जाकर-
हर इक औलाद आम नहीं ख़ास हो गई.

0

BEAUTY-Out Of The Heart OF The Owner

Out of the eyes of the beholder
Beauty is seen for a while
Out of the heart of the owner
Beauty is far from the smile

Mirror mirror on the wall
Greatest deciever of beauty call
Its not the cloths i pick
Its not the face i seek
You know the truth deep down
Beneath these features i frown

Strip me off
Let the beholder behold
The ugly sight underneath the cloth
Where true shame lies
Where flase fame flies

O you silly beholder
How beautiful am i in those eyes with a frame?
How come you alone holds they key to my beauty?
Throw me a spare so i could see the same
To feel confidence in this shame

When you go blind
Will my beauty be blind too?
When you die
Will me beauty die too?

No mirror
Reflect my inner in full
Let me see
So much the beholder holds
Make me more powerful
To see me beautiful
For as long as my hear beats.

The beholder sees for a while
But the owner see forever.

0

Poem on importance of women

what place you have in our hearts,
how love for you in us starts,
you know not.
how strange you make one man’s heart,
when smilingly you meet and pass,
you know not.
how dream we day and night of you,
and wish our all fantasies come true,
you know not.
how hurt we feel when you ‘sigh’
“we love you not” and say good bye,
you know not.
in lonliness how a man’s heart fry,
for love and beauty, how he cry,
you know not.
what makes you laugh, what makes you cry,
what makes you sad, and say goodbye,
we know not.
how mystries are woven in your hearts,
to make us cry and make us laugh,
we know not.
in all God’s beauty, from doves to trees
its only you that all we seek,
why?
we know not.

0

Women Hindi Poems-Beti Dua Hai

Agar beta waaris hai, to beti paaras hai.
agar beta vansh hai, to beti ansh hai.
agar beta aan hai, to beti shaan hai.
agar beta tan hai, to beti mann hai.
agar beta maan hai, to beti gumaan hai.
agar beta sanskaar hai, to beti sanskriti hai.
agar beta aag hai, to beti baagh hai.
agar beta dawa hai, to beti dua hai.
agar beta bhagya hai, to beti vidhata hai.
agar beta shabd hai, to beti arth hai.
agar beta geet hai, to beti sangeet hai.

0

Ananya

Ananya maa banane waali thi.
kitani khush thi woh,
jaise uske andar se uski beti ne aawaz di ho.

Maa O maa,
main kab baahar aaungi?
duniya ki baatein tum lapjhap tum karti ho
kya? main bhi duniya dekh paungi maa.

Main to hoon hi sabse achchhi,
par tum mujhse bhi achchhi.
koi tumse na bolega, main bolungi.
chaahe duniya tumse ruthegi, main saath nibhaungi maa.

Haan tu baahar aayegi beti
apani nanhi kilkaari se meri neend churayegi.
apane chhote kadamon se chal-chal
mujhe khoob daurayegi beti.

CLINIC mein baithi Ananya jaise chaunk gayi
jaise ek aawaaz ne uska sapna tod diya ho.
DOCTOR bola- inko ladaki hogi.
wah khilkhila kar hans di.
bas kuchh der ke liye!

DOCTOR saahab hum ABORTION karwana chaahenge.
uske pati ne kaha.

0

Ladakiya

nasibo kaa khel nahi,
kismat kaa dosh nahi,
soch ye apni hai,
kudarat ki den nahi.

betiya is dharati par ,
bhar kyo hoti hai?
janm to vo hi,
har insaan ko deti hai.

bhed nahi karati ,
ladakaa ho yaa ladaki,
mamataa wo apni,
sabhi pe samaan lutaati hai.

dishahin maanav ko,
raah dikhaati hai,
prem ka paath to,
wo sabhi ko sikhaati hai.

banke khewanhaar wo,
durga ranchandi kahlaayi,
aazaadi ki ladai me,
jhasi ki raani ban aayi.

jindagi ki jang me to,
sadaa saath wahi nibhaati hai,
hamase bhi badaa wo,
kaam kar jaati hai.

0

Magar ek naari

खुली जब आँखें मेरी खुली जब आँखें मेरी
मैंने एक सूरत निहारी वो थी एक नारी
बड़े जतन से पाला मुझको थी मेरी मारी
गया जब दरश को मंदिर, थी वहाँ जगत की पालन हारी
मगर एक नारी मगर एक नारी
जिसके करम ने सारी दुनिया संवारी
मुझसे वो लड़ती शिकायत वो करती
मगर मेरी खातिर दुनिया से भिड़ती
हर एक मुसीबत में मेरी साथ चलती
थी मेरी बहिना मेरी आँखों की तारी
मगर एक नारी मगर एक नारी
जो निकला सड़क पर तो था एक चेहरा
उतरा जो दिल में बनकर सुनहरा
सिखाया प्यार क्या होता है
अपनों का दर्द क्या होता है
जिसने उठाया नजरों का पहरा
वो थी दिलकश बड़ी प्यारी
मगर एक नारी मगर एक नारी
सोचता हूँ अब मैं बस एक बात
जाऊँगा जब कुछ आगे मिलेगा एक हाथ
थामेगा जो मुझे जब गिरूंगा कहीं
जिन्दगी के हर मोड़ पर रहेगा जो साथ
सुख दुःख बांटेगा मेरे करेगा जीवन आबाद
वो होगी मेरी जीवन सारी
मगर मेरी नारी मगर मेरी नारी
मैं जब थक जाऊंगा कहीं
तो मेरी ऊँगली पकड़ कर साथ देगी
मुझे फिर नयी खुशिओं की सौगात देगी
भर देगी मेरा दामन खुदकी हंसी से
वो मुझे पूरा होने का एहसास देगी
कोई और नहीं होगी मेरी बेटी दुलारी
मगर एक नारी मगर एक नारी
जब होगा मेरा अंतिम समय तो जाऊंगा छोड़ कर
लेटूंगा चैन से जमीं पर सोऊंगा माँ की गोद पर
देगी सहारा मुझको मेरी भारत माता न्यारी
मगर एक नारी मगर एक नारी
चलो मिलकर प्रणाम करते हैं, ऐसी शक्ति हे नारी
सर्वोपरि है सर्वप्रथम है नारी