0

Savera

होते ही सवेरा चिड़िया चहकीं,
फूल खिले और कलियाँ महकीं,

गुन -गुन करता भौरा आया,
भोर का उसने गीत सुनाया.

पंख फैलाये तितली उड़ती,
इधर, कभी उधर को मुड़ती.

नींद में खोई दुनिया जागी,
रोज के अपने काम को भागी.

देर तलक कुछ लोग हैं सोते,
सुबह का सुन्दर दृश्य हैं खोते.

ठंडी ठंडी पवन बहे जो,
स्वस्थ्य रहोगे यही कहे वो.

ताज़ी -ताज़ी सांस भरो तुम,
अब न आलस और करो तुम.

0

Picnic Khoob Manati Kirane

सूरज की डोली में चढ़कर,
सुबह -सवेरे आती किरणें.

सब रंगों में घुल मिल जाती
हँसती और हँसाती किरणें.

परियों जैसा चंचल मन है,
अद्भुत नाच दिखाती किरणें.

जब -जब छाते काले बादल,
छुप जाती, शर्माती किरणें.

हरी दूब के संग में खेलें,
इतराती -इठलाती किरणें.

पर्वत बाग़ -बगीचों में तो,
पिकनिक खूब मनाती किरणें.

0

Subah Subah

सुबह -सुबह मैदान में,
कसरत करते जो बच्चे.
नहीं कभी बीमार वो होते,
लगते सुन्दर सच्चे.

ख़ुशी ख़ुशी स्कूल जाते,
करते नित पूरा काम.
सबसे आगे सदा वे रहते,
उज्जवल करते नाम.

देश दुनिया की शान बढ़ाते,
दुःख में न घबराते.
सीख औरों को देते रहते,
कभी न वे इतराते.

सफलता पाना हो तो बच्चो,
आलस छोडो,
कर्म /मर्म /धर्म /धरा से,
अपना नाता जोड़ो.

0

Suraj nikla hua savera

Suraj nikla hua savera,
murga ji ne baang lagayi.
chhoda sabne rain basera,
jaago bhai, jaago bhai.
aasmaan mein chhayi laali,
hawa chali sunder sukhdaayi.
thalchar nabhchar sabhi chal pade,
aisi nayi chetna aayi.
chidiyan chahak uthi pedon par,
kaliyon ne bhi li angadaayi.
titali machal rahi phoolon par,
bhauron ki baaji shehnaayi.
dharti swarg smaan ho gayi,
aisa abhinav hua savera.
parkriti sundari ne jab aakar,
daala jag mein apana dera.

0

Surya Ki Pehali Kiran

सूर्य की पहली किरण से,
नित्य होता है सवेरा.

चहचहाते वृन्द खग सब,
छोड़ते पक्षी बसेरा.

सूर्य की पहली किरण से,
रक्त अम्बर रूप पाता.

प्रकृति की मोहक छटा से,
विश्व सारा जगमगाता.

सूर्य की पहली किरण से,
ज्ञान का सन्देश आता.

जो नहाता इस किरण से,
देवता का वेश पाता.

सूर्य की पहली किरण से,
तुम नया विश्वाश लाओ.

वीरपुत्रों भारती के,
भाग्य का दीपक जलाओ.

0

Aankhe kholo

Suraj dada ne dharti ko,
kirano ki chaadar pehanaayi.

Raat gayi sab phool khil gaye,
kaliyon ne bhi li angdaayi.

Chhod basera chahake pakshi,
murge ne bhi baang lagaayi.

Sheetal mand pawan fir doli,
pratah ki madhu bela aayi.

Boond oss ki chamaki jaise,
koi moti naya navela.

Parvat se jharne ka girna,
drishya bana mohak albela.

Dharti swarg smaan ho gayi,
apane jeevan mein ras gholo.

Mere bete der karo mat,
ab tum apani aankhe kholo.

0

Jaago Bhai

Bade savere suraj aaya,
andhkaar ko door bhagaya.
aasmaan par laali chhayi,
hawa chali sundar sukhdaayi.

Chanda jaakar kahin so gaya,
sara jag rangeen ho gaya.
baagon mein kaliyan muskaayi,
chidiyan ghar aangan mein aayi.

Tarunaayi phoolon par aayi,
bhauron ki baaji sahnaayi.
ud kar aayi titalirani,
sabse kehati nayi kahani.

Boond oss ki bhi sharmaayi,
moti jaisi aabha aayi.
jangal ne apana mooh khola,
soond utha kar haathi bola.

Murge ne phir baang lagaayi,
jaago bhai, jaago bhai.
bachchon aalas door bhagaao,
jaldi bistar se uth jaao.