0

Bewafai Poems in Hindi

सूने दिल की तनहाई अब सही नहीं जाती,
दिल तोड़ के चले गए क्या तुम्हें याद नहीं आती,
यादों में जगा हूँ सारी रात, अब क्यूँ तेरी वो प्यारी आवाज़ नहीं आती,
तेरी आवाज़ सुने अरसे गुजर गये,
भूल गयी हो या कोई बात नहीं आती.

0

Hindi Bewafai Poems

Us Raat Hum Safar Kya Karte.
Kahin Rook Kahin Thahar Kya Karte.
Jab Apne Ne Mujhse Bewfai Kii,
To Begane Ko Apni Khabar Kya Karte.
Waqt Ne Aisa Fal Diya Pyaar Kaa,
Kii Zindagi Me Ab Shabar Kya Karte.
Aankhon Ke Saamne Ho Rahi Thi Teri Masrufiiyaten,
Hatakar Hum Apni Nazar Kya karte.
Hum to Sitaron Ki Khoj Me Nikle the,
Lekar Shams-O-Qamar kya Karte.
Jine Ki Khwaish Thi Awal-O-Aakhir Tere Saath,
Ab Tujhe Ye Batakar Kya Karte.
Jab Tu Khush Hai Apni Zindagi Me,
Haal-E-Dil Sunakar Kya Karte.
Pehle To Pattharon Me Bhi Tujhe Dhundh Liya Karte The,
Jaankar Ab Tera Naya Sahar Kya Karte.
Tujhe Sine Se Lagakar Royaa Karte The,
Baahen Failakar Bhi Ab Sazar Kya Karte.
Tere Dil Me Kisi Aur Ne Bana Liya Aashiyana,
Apne Dil Me Bane Tere Ghar Ka Kya Karte.
Ab jab Ummiden Hi Tut Gayi Hai Tujhse,
Intzaar Tera Hum Umarbhar Kya Karte.
Pyaar Me Tere Khare samundar Ka Bhi Paani Meetha Lagta Tha,
Ab Tere Liye Peekar Zahar Kya Karte.
Zindagi Se Maano Naata Tut Gaya ‘NITESH’,
Fir Bhi Tere Liye Hum Markar Kya Karte.
Us Raat Hum Safar Kya Karte.
Kahin Rook Kahin Thahar Kya Karte.

0

Bewafai Shayari Poems

हम उन्हें याद करने से पहले
भूल जाते हैं सारा ज़माना ,
और वो तनहा नहीं ख्वाबों मैं भी
साथ लाते हैं सारा ज़माना

उनके शिकवे -गिले उनका गुस्सा
उनके एहसाँ हैं हम पर बहुत से
आज कल उनसे मिलते नहीं हम
जाने कब हो ये कर्जा चुकाना

हम से कहते थे डरते नहीं वो
उनको झूठा भी हम कह न पाए
अब तलक याद है हमको उनका
अपने आँचल से चेहरा छुपाना

उनके जितने तो खुशदिल नहीं हम
फिर भी जज्बे हैं दिल मैं हमारे
उनको खुद की ही परवाह नहीं है
हमको कहते हैं लेकिन दीवाना

मन सच्चे हैं सब उनके शिकवे
बस हम ही झूठ होते हैं अक्सर
कितना मुश्किल है सच को समझना
कितना आसां हैं झूठा बनाना

जब भी मिलते थे रहती थी जल्दी
अब उन्हें कितनी ज्यादा है फुर्सत
फिर भी कोई कमी रह गयी है
उनका मुश्किल है लम्हे बिताना

कितनी परवाह उन्हें दुनिया की थी
उनके लिए भी ये दुनिया न बदली
उनकी खामोश तनहा मोहोब्बत
बन चुकी है जहाँ मैं फ़साना

जिंदगी को बचा कर के हमने
जिंदगी मैं कई दाव खेले
जाने किसने उन्हें पर सिखाया
दाव पर जिंदगी को लगाना

जिंदगी कितनी मुशकिल है उनकी
कितनी आसां है दर्द -ऐ -जुदाई
हम तो तन्हाई मैं रो भी लेंगे
पर उन्हें है सदा मुस्कराना

कितने संगदिल मेरे सरे सपने
कितनी खुशदिल मेरी दिलरुबा है
काश यूं ही हँसे उमरभर वो
न भूले कभी मुस्कराना.

0

Bewafai hindi poems

Tu badal gya waqat ki saard hawaon se
Warna itnay be buray marasim na thy
Hum to Rahgir thy aik hi gulastan k
Yah kya hoa k achank rastay badal gay
Youn rishtay bantay ni do char mulaktaon se
Umer biyt jati hay aik rishtay Bnanay main
Yah zindagi aj be adhoori hay tere bina
Loot aao kahin humari sansain be na chot jain
Hum to aj be uci rastay pay kharay hain Noman
Daykho waqat humain kab badalta hay umeed bar se.

0

Bewafai Poems

Dil lagi thi usse hum se mohabbat kub thi
Mehfil-e-ghair se usse fursat kub thi

Hum thay mohabbat mein lut jaane k qayal
Uss k wadoun mein wo haqeeqat kub thi

Wo waqt guzaarne k liye karta tha pyar ki baaten
Warna meri khatir uss k dil mein chahat kub thi

Bohat roka magar nikal aate kam-bakht aansu
Bazm-e-yaad mein aansu bahaane ki ijazat kub thi

Khuda jaane kis ki yaad mein hua hai wo behaal
Warna mere ishq mein uss ki aisi haalat kub thi.